अभिनंदन वर्धमान (Abhinandan Varthaman) - Biography(Life Story) in Hindi

Abhinandan Varthaman Biography(Life Story) in Hindi


भारतीय सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान आज पूरे देश के हीरो बन गए हैं आज हर किसी को नाज है देश के वीर जवान पर जिस तरह बहादुरी से अपने कर्तव्य का पालन उन्होंने किया है वह हर भारतीय के अंदर एक अलग ही ज़ज़्बा भर देने वाला है.अभिनंदन के कारनामे को तो मेरे ख्याल से आप सभी लोग जान ही चुके होंगे क्योंकि पिछले कई दिनों से ही वह हर जगह पर छाए हुए हैं लेकिन दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आपको अभिनंदन वर्धमान के वीरता की कहानी नहीं बताउंगा बल्की उनके जीवन के बारे में जानकारी या दूँगा जिसके बारे में शायद आपको पता नही होगा

अभिनंदन वर्धमान (Abhinandan Varthaman) - Biography(Life Story) in Hindi
Abhinandan Varthaman- Biography(Life Story) in Hindi

तो दोस्तों इस कहानी की शुरुआत होती है 21 जून 1983 से जब तमिलनाडु के तांबरम नाम के एक छोटे से टाउन में अभिनंदन वर्तमान का जन्म हुआ उनके पिता का नाम सिंबाकुट्टी वर्धमान है जो कि भारतीय वायु सेना के एक रिटायर्ड एयर मार्शल रह चुके हैं इसके अलावा अभिनंदन के दादाजी भी आज़ादी के पहले ही भारतीय वायु सेना में थे और उन्होंने दूसरे विश्व युद्ध में Participate किया था और इस तरह से अगर देखा जाए तो अभिनंदन की कई पीढ़ियाँ देश के हित में काम कर रही है


और दोस्तों अभिनंदन वर्धमान के पिता अभी इंडियन एयरफोर्स के अंदर अच्छा खासा नाम कमा चुके हैं वह एक समय पर ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ थे उनका सर्विस नंबर 13606 और सिंबाकुट्टी वर्धमान को उनके शानदार काम की वजह से परम विशिष्ट सेवा मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेड और विशिष्ट सेवा मेडल की तरह ही कई सारे एवोर्ड मिल चुके हैं और दोस्तों बड़ी ही दिलचस्प बात यह है कि रिटायरमेंट के बाद सिंबाकुट्टी वर्धमान ने एक तमिल फिल्म Kaatru Veliyidai में Advisor के तौर पर काम किया था.
Kaatru Veliyidai - Abhinandan Varthaman Father Movie Advisor
Kaatru Veliyidai - Abhinandan Varthaman Father Movie Advisor

जो की Basically 1999 के कारगिल युद्ध के ऊपर बनाई गई थी और इस फिल्म के Story ऐसे एक भारतीय पायलट की है जी से पाकिस्तान के रावलपिंडी के जेल में Prisoner Of War यानी की युद्ध के केदी के रूप में रखा जाता है और सयोंग से कुछ इसी ही तरह की घटना अभी हाल सिंबाकुट्टी वर्धमान के बेटे अभिनंदन वर्धमान के साथ में अभी हाल ही में घटी थी जिसने कि पूरे देश को एक साथ ला खड़ा किया था.


वही अभिनंदन की बात करें तो उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई केंद्रीय विद्यालय बेंगलुरु से की और फिर आगे चलकर उन्होंने पुणे के पास बसे खड़कवासला से नेशनल डिफेंस एकेडमी में भी पढ़ाई की है और फिर पढ़ाई और ट्रेनिंग पूरी करने के बाद अभिनंदन ने 19 जून 2004 को इंडियन एयरफोर्स ज्वाइन किया था और भारतीय वायु सेना में उन का सर्विस नंबर है 27981 इसके आलावा अभिनंदन की शादी भी तन्वी मरवाहा नाम की एक लड़की से हो चुकी है और तन्वी भी भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टर पायलट रह चुकी है और इंडियन एयर फोर्स में उनका सर्विस नंबर था 288000 हालांकि अभिनंदन और तन्वी बचपन के ही दोस्त हैं और उन्होंने पांचवी से लेकर आगे की पढ़ाई साथ में की है यहां तक कि कॉलेज में माइक्रोबायोलॉजी की डिग्री भी दोनों ने साथ में ही ली थी हालांकि तन्वी ने आगे चलकर Armed Force Executive की डीग्री IIM अहमदाबाद से ली और Squadron Leader की तोर पर  इंडियन एयरफोर्स के तौर पर 15 साल तक काम कर चुकी है

और 2018 में भारतीय वायु सेना से Retirement के बाद फीलाल वह Reliance Jio Bangalore में DGM के पद पर काम कर रही है और तन्वी से अभिनंदन का एक बेटा भी है जिसका नाम है तविष. अंत में बस यही कहना चाहूंगा कि जिस तरह से अभिनंदन ने साहस का परिचय देते हुए देश का नाम रोशन किया है वह काबील्ये तारीफ है और उनकी कहानी हम भारतीयों को Inspire करती है साथ हमें अभिनंदन के फैमिली को भी धन्यवाद कहना चाहिए कि जिनकी कई पीढ़ियाँ भारत की रक्षा करती हुई चली आ रही है उम्मीद करता हुं कि आपको अभिनंदन के बारे में यह कुछ Unique जानकारियाँ ज़रुर पसंद आई होगी.आपका बहुमूल्य समय देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments